आगे

मास्टर और शिष्यों के बीच

सुरंगामा सूत्र: आत्मज्ञान के पच्चीस साधन, पाँचवी सभा, ग्यारह भाग शृंखला का भाग ९ April 7, 2019

2019-11-30
Lecture Language:English  Host Language:Kposo(Akposso)

प्रकरण

विवरण
डाउनलोड Docx
और पढो
इसलिए, वह हर जगह जा सकती हैं। वह स्वयं को प्रदर्शित कर सकती हैं सभी विभिन्न भूमियों में और विभिन्न देशों में, विभिन्न मंडलों में, और विभिन्न जीवों से बात करती हैं उन्हें जागृत करने और उन्हें मुक्त करने के लिए, अपनी शक्ति के कारण, उस कारण। वह बहुत आशिक़ केंद्रित करती हैं, कि उनके लिए कोई भी भौतिक जगत नहीं है। सब केवक शुद्ध, शुद्ध प्रकाश, और शक्ति, आध्यात्मिक शक्ति है।
और देखें
प्रकरण
सूची
साँझा करें
साँझा करें
एम्बेड
इस समय शुरू करें
डाउनलोड
मोबाइल
मोबाइल
आईफ़ोन
एंड्रॉयड
मोबाइल ब्राउज़र में देखें
GO
GO
ऐप
QR कोड स्कैन करें, या डाउनलोड करने के लिए सही फोन सिस्टम चुनें
आईफ़ोन
एंड्रॉयड