दिनांक द्वारा खोजें
से
सेवा में
मास्टर और शिष्यों के बीच

Take a look into the candid conversations between Supreme Master Ching Hai and Her disciples, on subjects ranging from spirituality to daily life, as well as rare insights into other realms beyond Earth. We must open our hearts to all kinds of noble influence, all kinds of noble company; we must take advantage of this chance. If we still believe that to improve our purity, to improve our wisdom is the highest purpose of humanity, then we must make effort. ~ Supreme Master Ching Hai (Vegan) World-renowned Humanitarian, Artist, and Spiritual Master

चार प्राणी जो विश्व की देखभाल करते हैं, पाँच भाग का भाग ५

चार प्राणी जो विश्व की देखभाल करते हैं, पाँच भाग का भाग ५

And it’s good for them to remember things, to remember to go inward, to remember why we have to have liberation. Because this world, sooner or later, it will be demolished, will disappear, disintegrated. Just like every element that makes up this world and makes up our body.I don’t want us to ever come back and forth, and become this and that again. I want to finish with all this. That's why in India, mostly they revere the Guru very much, the Master who gives them initiation and frees their souls. They even sing songs like, “Only my Guru is for me. God has thrown me into this whirlwind existence and only my Master can pull me out of it.” Something like that. They even revere, almost hinting like the Guru is even better than God. That’s what it is.
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-03-01   3 दृष्टिकोण
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-03-01

चार प्राणी जो विश्व की देखभाल करते हैं, पाँच भाग का भाग ४

00:29:12

चार प्राणी जो विश्व की देखभाल करते हैं, पाँच भाग का भाग ४

क्योंकि यदि आप उस समय पर्याप्त सतर्क नहीं हैं, तो आप केवल भोजन का आनंद लेते हैं और फिर आप बस बाहर देख रहे हैं और आपका ध्यान अंदर से बहुत उत्सुक नहीं है, और आपके लिए संक्रमित होना आसान है। (जी हाँ, मास्टर।) क्योंकि आप उस पल में भगवान को भूल जाते हैं, आप भोजन और अपने आस-पास के सभी वातावरण का आनंद लेते हैं, शायद यह उनके लिए अनुकूल नहीं है। यह आपके भोजन, ऊर्जा में चला जाता है।
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-28   952 दृष्टिकोण
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-28

चार प्राणी जो विश्व की देखभाल करते हैं, पाँच भाग का भाग ३

00:30:14

चार प्राणी जो विश्व की देखभाल करते हैं, पाँच भाग का भाग ३

भले ही भगवान ने कुछ बड़े और शक्तिशाली जानवर बनाए, लेकिन उन्होंने उन्हें नियंत्रित करने के लिए कुछ और बनाया। यहां तक कि साल में केवल एक बार, उनमें से प्रत्येक एक मौसम की देखभाल करने के लिए ताकत के साथ लेता है जिसे भगवान ने उन्हें दिया है। वे उन शातिर जानवरों से डरते हैं, जिनके द्वारा बनाई गई हैं? किसके द्वारा? ( भगवान द्वारा।) (समान ईश्वर।) ईश्वर द्वारा।
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-27   1260 दृष्टिकोण
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-27

चार प्राणी जो विश्व की देखभाल करते हैं, पाँच भाग का भाग २

00:32:33

चार प्राणी जो विश्व की देखभाल करते हैं, पाँच भाग का भाग २

ये देवदूर, वे अपने पंख फैलाते हैं, बड़े, बड़े पंख, सभी जीवों की रक्षा के लिए ताकि ये बुरे दानव और आत्माएँ मानवों को नुक़सान ना कर सकें। बाइबल में, भजन, अध्याय ९१, यह इसप्रकार कहता है: ईश्वर आशीर्वाद देते हैं और अपने पंखों के नीचे सुरक्षा करते हैं।
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-26   1692 दृष्टिकोण
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-26

चार प्राणी जो विश्व की देखभाल करते हैं, पाँच भाग का भाग १

00:27:30

चार प्राणी जो विश्व की देखभाल करते हैं, पाँच भाग का भाग १

भूत और दानव, उन्हें कभी भी जीवित जीवों के बीच नहीं रहना चाहिए। इसकी अनुमति नहीं है। लेकिन वे पसंद करते हैं, क्योंकि जीवित प्राणी, जानवर या मानव, के पास अच्छी ऊर्जा होती है। आप समझते हैं मैं क्या कह रही हूँ? (जी हाँ।) यह अधिक रोचक ऊर्जा और सच्ची ऊर्जा होती है।
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-25   2018 दृष्टिकोण
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-25

बेहतर विश्व के लिए स्वर्ग का अनुसरण करें, तीन का भाग ३

00:27:39

बेहतर विश्व के लिए स्वर्ग का अनुसरण करें, तीन का भाग ३

कर्म हमेशा तुरंत नहीं आता है, या उसका कोई समय नहीं है, कर्म के लिए कोई समय नहीं है। कभी कभी वह जल्दी आ सकता है, कभी कभी वह धीरे आ सकता है। यह निर्भर करता है, निश्च्य ही, आपके गुणों पर और आध्यात्मिक अभ्यास में आपकी निष्ठा पर, या अगर कोई आपके लिए प्रार्थना करता है, या आप स्वयं के लिए पूरे दिल से प्रार्थना करते हैं। चीज़ें विलंबित की जा सकती हैं, या तीव्र की जा सकती हैं।
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-24   2122 दृष्टिकोण
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-24

बेहतर विश्व के लिए स्वर्ग का अनुसरण करें, तीन का भाग २

00:29:54

बेहतर विश्व के लिए स्वर्ग का अनुसरण करें, तीन का भाग २

स्वर्ग मदद करना चाहते हैं, लेकिन उनके पास मदद करने के लिए परिस्थिति होनी चाहिए। हम उस परिस्थिति को नहीं बनाते हैं। हमारे पास स्वर्ग के साथ  पक्ति में कोई भी स्थिति बनाने की ताकत है। और फिर हम स्वर्ग का अनुसरण कर सकते हैं विश्व को एक बेहतर जगह बनाने के लिए। यहां तक ​​कि पृथ्वी पर स्वर्ग भी।
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-23   1972 दृष्टिकोण
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-23

बेहतर विश्व के लिए स्वर्ग का अनुसरण करें, तीन का भाग १

00:24:35

बेहतर विश्व के लिए स्वर्ग का अनुसरण करें, तीन का भाग १

हरजगह, हर देश जहां मैं जाती हूँ, सबसे धनवान देश भी, मैंने बेघर लोग देखे, और यह हमेशा मेरे दिल को दुखाता है। हमारा विश्व ठीक नहीं है। बिल्कुल ठीक नहीं है। मुझे नहीं पता सरकारें क्या कर रही हैं; वे मानवों, साथी मानवों और साथी जानवरों की पीड़ा के प्रति आँखें बंद कर लेते हैं या कुछ। यह ठीक नहीं है।
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-22   2214 दृष्टिकोण
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-22

प्रेम की सभा, पाँच भाग शृंखला का भाग ५

00:29:58

प्रेम की सभा, पाँच भाग शृंखला का भाग ५

मैं खुश हूँ आप एक साथ काम करते हैं। अब बहुत से लोग एकसाथ काम करते हैं सुप्रीम मास्टर टीवी कार्यक्रम के कारण। कुछ लोग चले गए थे और अब वाप आ गए हैं सुप्रीम मास्टर टीवी कार्यक्रम के कारण। हर कोई इस बारे में बहुत उत्साहित होता है। यह असली टीवी है! जब मैंने पहले इसे चालू किया, मैंने कहा, "हा! यह असली है!"
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-21   1114 दृष्टिकोण
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-21

प्रेम की सभा, पाँच भाग शृंखला का भाग ४

00:27:35

प्रेम की सभा, पाँच भाग शृंखला का भाग ४

तो कैसे मैं आपके चारों ओर रक्षा नहीं डालूँगी? (हाँ।) पाँच (पवित्र) नामों और कृपा का हर समय जाप करें जो मैं आपको सिखाती हूँ। कोई आपको छू भी नहीं सकता। (ठीक है।) कोई भी इस तरह के लोगों के पास आ नहीं सकता।
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-20   1264 दृष्टिकोण
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-20

प्रेम की सभा, पाँच भाग शृंखला का भाग ३

00:32:00

प्रेम की सभा, पाँच भाग शृंखला का भाग ३

आप लोगों की एक समस्या है, बहुत अधिक शारीरिक सम्पर्क चाहते हैं, गुरु की बाहरी पक्ष से बहुत अधिक चिपके हैं। इसीलिए आपको समस्या है। मैं हर जगह हूँ। मैं यह शरीर नहीं हूँ। जब आप यहाँ आते हैं, मेरी आँखों में देखने का प्रयास करें जब भी आप देख सकें। वहीं से कृपा बाहर आती है।
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-19   1296 दृष्टिकोण
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-19

प्रेम की सभा, पाँच भाग शृंखला का भाग २

00:27:34

प्रेम की सभा, पाँच भाग शृंखला का भाग २

क्योंकि वे बच्चे हैं, वे अधिक नहीं समझते हैं, तो आप उन्हें बताएँ क्यों आपको अच्छे से ध्यान करना चाहिए। (हाँ।) कहें, "मास्टर बहुत ख़ुश होंगी यदि आप अधिक ध्यान करते हैं और अपने ज्ञान को विकसित करते हैं। और फिर आप अधिक बुद्धिमान, अधिक अच्छे होंगे, और हर कोई आपको अधिक पसंद करेगा। आप बाद में अधिक सफल होंगे। आप एक बेहतर इंसान बनेंगे।"
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-18   1410 दृष्टिकोण
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-18

प्रेम की सभा, पाँच भाग शृंखला का भाग १

00:27:19

प्रेम की सभा, पाँच भाग शृंखला का भाग १

पैसा मज़ेदार चीज़ है। पैसा कभी कभी लोगों को बदल देता है, कर्म के कारण। तो, बेहतर है आप अपना ध्यान रखें। यदि मैं आपको सबकुछ देती रही- ऐसा नहीं कि मैं नहीं दे सकती, लेकिन फिर आपके पास पर्याप्त पुण्य नहीं होते हैं।
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-17   1724 दृष्टिकोण
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-17

नव वर्ष संध्या पर भूत कहानी, आठ भाग शृंखला का भाग ८

00:27:28

नव वर्ष संध्या पर भूत कहानी, आठ भाग शृंखला का भाग ८

मैं पूरे विश्व के आत्मज्ञानी होने की कामना करती हूँ। (जी हाँ।) विश्व वीगन, विश्व शांति के बाद, उन्हें आत्मज्ञानी होना होना। यह और भी बेहतर है। लेकिन अभी, मैं अधिक आशा करने की हिम्मत नहीं करती। यह सिर्फ़ विश्व वीगन, विश्व शांति है। यह पहले ही मेरे लिए बहुत भाग्यशाली है। लेकिन आत्मज्ञान सर्वोत्तम चीज़ है जो हम पा सकते हैं।
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-16   2207 दृष्टिकोण
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-16

नव वर्ष संध्या पर भूत कहानी, आठ भाग शृंखला का भाग ७

00:26:24

नव वर्ष संध्या पर भूत कहानी, आठ भाग शृंखला का भाग ७

वे राक्षस और भूत बन जाते हैं क्योंकि उनके पास नरक में जाने के लिए पर्याप्त पाप नहीं होते हैं। और उनके पास पर्याप्त कर्म, अच्छे कर्म नहीं होते हैं, मानव बनने के लिए। या उनके पास जानवर श्रेणी में पर्याप्त कर्म नहीं होते हैं कि वे जानवर के रूप में पुनर्जन्म ले सकें।
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-15   2246 दृष्टिकोण
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-15

नव वर्ष संध्या पर भूत कहानी, आठ भाग शृंखला का भाग ६

00:29:57

नव वर्ष संध्या पर भूत कहानी, आठ भाग शृंखला का भाग ६

इसलिए, हमें सबकुछ बीच में करना है। हमें कुछ भी अत्याधिक नहीं करना है। मुझे लगता है यह सर्वोत्तम है क्योंकि हमें अपने आस पास के लोगों के बारे में सोचना है। दूसरों के बारे में सोचें जिनके पास हमसे कम है, किसी भी स्थिति में।
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-14   2081 दृष्टिकोण
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-14

नव वर्ष संध्या पर भूत कहानी, आठ भाग शृंखला का भाग ५

00:26:41

नव वर्ष संध्या पर भूत कहानी, आठ भाग शृंखला का भाग ५

यह उस जीवन की तरह है जो मैंने पहले भारत में बिताया, मैंने आपको बताया, ऋषिकेश में। (जी हाँ, मास्टर।) मुझे इस तरह का जीवन पसंद है। मैं उसके अलावा कुछ भी याद नहीं करती, उस जीवन के लावा। मैं कभी कभी उसे याद करती हूँ। बहुत अधिक, बहुत अधिक, बहुत अधिक। बहुत स्वतंत्र नहासूस होता है। आप मुझे समझते हैं? (जी हाँ।) आप बहुत स्वतंत्र महसूस करते हैं। हमें बहुत अधिक धन की आवश्यकता नहीं है। हमारा जीवन
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-13   1993 दृष्टिकोण
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-13

नव वर्ष संध्या पर भूत कहानी, आठ भाग शृंखला का भाग ४

00:26:15

नव वर्ष संध्या पर भूत कहानी, आठ भाग शृंखला का भाग ४

और मैं कभी कभी द्रवित और प्रभावित, और आभारी हुई कि मैं मानव -काल के इस समय में रहती हूँ- कि बहुत सी सुविधा है, कि हमारा जीवन बहुत, बहुत आरामदायक है। (जी हाँ, मास्टर।)
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-12   2340 दृष्टिकोण
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-12

नव वर्ष संध्या पर भूत कहानी, आठ भाग शृंखला का भाग ३

00:28:26

नव वर्ष संध्या पर भूत कहानी, आठ भाग शृंखला का भाग ३

केवल संत जैसे लोग ही वह काम कर सकते हैं जो आप कर रहे हैं। यह आपके लिए आसान लगता है क्योंकि यह आपका लक्ष्य है। आप यह करना पसंद करते हैं। हर कोई नहीं कर सकता, यद्यपि यह आपके लिए आसान लगता है। (जी हाँ।) निश्चय ही, हमने कभी कभी कठिन काम किया, लेकिन आपके लिए, यह कोई बंधन या कुछ मुश्किल नहीं लगता है। आप बस इसे करते हैं क्योंकि आप करना चाहते हैं।
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-11   2286 दृष्टिकोण
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-11

नव वर्ष संध्या पर भूत कहानी, आठ भाग शृंखला का भाग २

00:30:15

नव वर्ष संध्या पर भूत कहानी, आठ भाग शृंखला का भाग २

तो दरवेश ने उसे कहा, 'मुझे दुःख के साथ आपको कुछ बताना है, कि आपकी पत्नी मानव नहीं है। वह एक साँप है।' और फिर आदमी बहुत, बहुत व्याकुल हुआ। वह विश्वास नहीं कर सकता था जो दरवेश पंडित ने उसे कहा था।
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-10   2361 दृष्टिकोण
मास्टर और शिष्यों के बीच
2021-02-10
ऐप
QR कोड स्कैन करें, या डाउनलोड करने के लिए सही फोन सिस्टम चुनें
आईफ़ोन
एंड्रॉयड
उपशीर्षक
Use 0.047s